CGP NEWS

  • पंडरी स्थित जागृति मंडल भवन में मौजूद हैं भागवत, पौधरोपण की तस्वीरें आईं सामने
  • भाजपा उपाध्यक्ष सच्चिदानंद उपासने ने पार्टी में कार्यकर्ताओं की उपेक्षा, चापलूसी के मुद्दों पर दिया बयान

शहर में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघ चालक मोहन भागवत मौजूद हैं। पंडरी स्थित जागृति मंडल में वह संघ के पदाधिकारियों की बैठक ले रहे हैं। संघ के पिछले दो सालों में छत्तीसगढ़ के काम काज की समीक्षा भी करेंगे। देर शाम तक चलने वाली इस बैठक में संघ के कोर ग्रुप के पदाधिकारियों को ही बुलाया गया है। इस दौरान संघ की साल भर की गतिविधियों को तय किया जाएगा। संघ सूत्रों के मुताबिक प्रदेश के राजनीतिक हालातों पर भी मोहन भागवत नजर बनाए हुए हैं। कुछ ही महीनों में संघ के भीतर भी चुनाव होने वाले हैं, मोहन भागवत का यह दौरा इस लिहाज से महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

सच्चिदानंद ने बनाया वीडियो
भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष और संघ के पुराने कार्यकर्ता सच्चिदानंद उपासने ने एक वीडियो जारी किया। इस वीडियो में उन्होंने कहा कि आज हमारे सरसंघ चाहल मोहन भागवत जी छत्तीसगढ़ में उपस्थित हैं, हमें यह चिंतन करना चाहिए कि 15 सालों की सत्ता के बाद आज हमारी ये स्थिति क्यों है ? संघ में देश के लिए काम करने का भाव होता है, मैं नहीं तू के भाव से काम करते हैं, प्रचार की चिंता किए बिना। आज कार्यकर्ता को कोई प्यार दे, उसका सुख दुख पूछे, जनसंघ से सीख लेकर काम करने वालों को तवज्जो मिले, हम विचार करें, संवाद करें। कार्यकर्ता को यदि अपनाकर चलें तो 15 साल की पहचान हम फिर से वापस पा सकते है

कांग्रेस पूछे संघ प्रमुख से सवाल
छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने मीडिया के जरिए कुछ सवाल संघ प्रमुख से पूछे। तिवारी ने कहा कि क्या संघ प्रमुख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहकर केंद्र के तीस लाख रिक्त पदों में से तीन लाख पद प्रदेश के युवाओं को देने का अनुरोध करेंगे? कांग्रेस के प्रवक्ता आरपी सिंह ने कहा कि राज्य की गौ धन न्याय योजना का अगर मोहन भागवत समर्थन करते हैं तो क्या केंद्र सरकार के इसे देश में प्रारंभ करने कहेंगे ? क्या माता कौशल्या का दर्शन करने के लिए उनके मंदिर जाएंगे ? क्या छत्तीसगढ़ के राम वन गमन पर्यटन परिपथ प्रोजेक्ट को केंद्र की स्वदेश दर्शन योजना में शामिल करवाएंगे ?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here