सांकेतिक तस्वीर

Bihar Topper Factory Simultala Awasiya Vidyalaya: पिछले कुछ सालों से बिहार बोर्ड में सिमुलतला आवासीय विद्यालय के छात्रों का दबदबा रहा है। साल 2015 में टॉप 10 के 31 टॉपरों में से 30 टॉपर देकर इस स्कूल ने रेकॉर्ड बनाया था। पिछले साल भी टॉप 10 के 18 टॉपरों में से 16 टॉपर अकेले इस स्कूल के थे। लेकिन इस साल बिहार बोर्ड की टॉपर फैक्ट्री का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा। इस साल कुल 41 छात्रों ने टॉप 10 में जगह बनाई है जिनमें से सिर्फ 3 सिमुलतला आवासीय विद्यालय से है। इस बार धान के कटोरे के नाम से प्रसिद्ध रोहतास जिले ने चौंकाया है जहां से 8 टॉपर हैं। कुल 41 टॉपर में 10 लड़कियां और 31 लड़के हैं।


15 नवंबर, 2000 को बिहार से अलग होकर झारखंड एक नया राज्य बना। झारखंड अलग होने से पहले बिहार के पास उत्कृष्ट शिक्षा के लिए दो स्कूल थे। वे दो स्कूल थे हजारीबाग स्थित लड़कियों का स्कूल इंदिरा गांधी रेजिडेंशल स्कूल और नेतरहाट रेजिडेंशल स्कूल। ये दोनों स्कूल झारखंड के पास चले गए थे। जब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बने तो उनको उन दोनों स्कूलों की कमी को पूरा करने की जरूरत महसूस हुई। उन्होंने नेतरहाट के पूर्व छात्रों से संपर्क किया और उनको इस परियोजना पर काम करने के लिए आमंत्रित किया। बिहार सरकार के मानव संसाधन विकास विभाग के मार्गदर्शन में इस पर काम शुरू हुआ और एक साल की रेकॉर्ड अवधि में काम पूरा हो गया। 6/7 अगस्त, 2010 को 120 छात्रों का पहला बैच स्कूल पहुंचा और 9 अगस्त, 2010 को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उसका उद्घाटन किया।

रिजल्ट में हुई थोड़ी देर

इस बार मैट्रिक रिजल्ट का छात्र काफी बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। पहले तो रिपोर्ट्स में कहा गया कि 21 मई को रिजल्ट आएगा, फिर 22 मई को। बाद में पता चला कि कुछ तकनीकी खामियों की वजह से सोमवार तक ही रिजल्ट आएगा। सोमवार को कन्फर्म किया गया कि 26 मई को दोपहर 12.30 बजे रिजल्ट आएगा। खैर रिजल्ट आने के साथ ही अटकलबाजियों का दौर भी खत्म हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here